होम कानपुर उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड बिहार नई दिल्ली राजनीति मध्यप्रदेश खेल-कूंद लखनऊ संपर्क
 
  1. आजमगढ़ में पुलिस मुठभेड़, दो ईनामी बदमाशों और एक सिपाही को लगी गोली
  2.      
  3. ब्रेकिंग कल्यानपुर थाना क्षेत्र के कल्यानपुर क्रॉसिंग पर बुजुर्ग की एक्सीडेंट से मौत
  4.      
  5. आजमगढ़ जेल में कैदियों के बीच खूनी संघर्ष भारी फोर्स जेल में घुसी
  6.      
 
 
आप यहां है - होम  »  लखनऊ  »  कैद किए गए भारतीय पॉयलट को कोई नुकसान नहीं पहुंचा सकता पाक, जानें कैसे
 
कैद किए गए भारतीय पॉयलट को कोई नुकसान नहीं पहुंचा सकता पाक, जानें कैसे
Posted By- Pramod srivastava Updated: 2/27/2019 9:30:52 PM

पाकिस्तान और भारत के बीच एक बार फिर तनाव जोरो पर हैं। 14 फरवरी को पुलवामा अटैक हुआ और उसका बदला लेन के लिए 26 फरवरी को भारती. सेना ने पाकिस्तान मे घुसकर एयर स्ट्राइक कर दी। इसके बाद से ही पाकिस्तान मे बौखलाहट आ गई है। आज भारतीय सीमा क्षेत्र में पाकिस्तानी लड़ाकी विमानों ने घुसपैठ कर दी। जवाब कार्रवाई में भारत  ने पाकिस्तानी फाइटर जेट को मार गिराया,  लेकिन भारत के एक फाइटर प्लेन पर पाकिस्तान ने अटैक कर दिया है। पाकिस्तान ने दावा किया है कि भारत के एक पॉयलट को उन्होंने अपने कब्जे में किया है। पहले इस बात को झूठा बताया जा रहा था, लेकिन प्रेस ब्रीफिंग के दौरान भारत सरकार ने माना की एक पॉयलट लापता हैं। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि भारत के तरफ से किए गए एयरस्ट्राइक के जवान में पाकिस्तान ने भी हमला किया। हालांकि भारत ने उनके लड़ाकू विमान को मार गिराया। इस कार्रवाई के दौरान भारत का एक विमान MiG विमान भी धवस्त हो गया और हमारा एक पायलट लापता है। अभी इस बात की जांच चल रही है। अब इस खबर को लेकर आमजन के मन में ये सवाल आ रहा है कि हमारे भारतीय पॉयलट के साथ कुछ गलत ना हो जाए। ऐसे में हम आपको बताते है कि युद्ध बंदियों के लिए नियम क्या है। . अतंरराष्ट्रीय जिनेवा संधि मे युद्धबंदियो को लेकर नियम बनाए गए हैं। इसके तहत अगर कोई किसी को युद्धबंदी बनाता है तो उसे डराने-धमकाने का काम या फिर उसे अपमानित नहीं किया जा सकता। युद्धबंदी को लेकर जनता में किसी भी तरह की उत्सुकता पैदा करना मना है। जिनेवा संधि के अनुसार, युद्धबंदी पर या तो मुकदमा चलाय जाएगाय फिर अगर .युद्ध होता है तो उसके बाद उन्हें लौटा जाएगा। पकड़े जाने पर युद्धिबंदियों को अपना नाम, सैन्य पद और नंबर बताने का भी प्रावधान भी किया गया है। हालांकि दुनिया के कुछ देशो ने जिनेवा संधि का उल्लंघन भी किया है। जिनेवा संधि आम तक दूसरे विश्वयुद्ध के बाद 1949 में तैयार किए गई संधियो और नियमो से हैं। इसका मुख्य मकसद है कि युद्ध के वक्त इंसानी मूल्यों को बनाए रखना। अगर भारतीय पॉयलट उनके कब्जे में हैं तो और वहां पर जिनेवा संधि का उल्लंघन ना हो तो उन्हें कुछ भी नहीं हो सकता है। बता दें की इमरान खान ने तनाव के बीच देश को संबोधित करते हुए कहा कि वो एक बार फिर भारत से हमले को लेकर बातचीत करना चाहते हैं। पीएम इमरान खान का कहना है कि जंग शुरु तो हो जाएगी, लेकिन इसे ना तो मैं रोक पाउंगा और ना ही मोदी। जंग शुरु हो जाती है, लेकिन कब कहां और किन हालातों में खत्म होगी इस बारे में कोई नहीं जानता है। उन्होंने कहा कि हम आतंकवाद पर बात करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। अगर भारत की तरफ से हमला हुआ तो पाकिस्तान चुप नहीं बैठेगा औऱ जवाब देगा। बता दें कि 26 फरवरी को हुई वायुसेना स्ट्राइक के बाद से माहौल में तनातनी और बढ़ गई है। 

Share this :
   
State News से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए HNS के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
 
प्रमुख खबरे
पुलिस थाने के बाहर खड़ी गाड़ियों में अचानक लगी आग, पुलिसकर्मियों में मचा हड़कंप
यूपी में भाजपा को मिला इन पांच दलों का समर्थन, डिप्टी सीएम ने दिया बड़ा बयान
विवेक तिवारी हत्याकांड में आया नया मोड़
भार्इ की मुजफ्फरनगर दंगों में हुर्इ थी हत्या
अखिलेश यादव ने कहा- चुनाव से पहले डीजीपी ओपी सिंह को हटाएं
 
 
 
Copyright © 2016. all Right reserved by Live UP News 24 | Privecy policy | Disclimer Powered By :