होम कानपुर उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड बिहार नई दिल्ली राजनीति मध्यप्रदेश खेल-कूंद लखनऊ संपर्क
 
  1. कानपुर में 31 उपनिरीक्षकों के कार्यक्षेत्र में परिवर्तन,
  2.      
  3. रायबरेली के कुंदनगंज में बड़ा सड़क हादसा जिसमें कार सवार बच्चे सहित चार लोगों की मौके पर ही मौत हो गई
  4.      
 
 
आप यहां है - होम  »  उत्तराखण्ड  »  हरिद्वार में भीषण ठंड के बीच धधकने लगी मनसा देवी की पहाड़ियां, वन विभाग अंजान
 
हरिद्वार में भीषण ठंड के बीच धधकने लगी मनसा देवी की पहाड़ियां, वन विभाग अंजान
Posted By- Ashish Srivastava Updated: 1/31/2019 10:55:43 PM

हरिद्वारः हरिद्वार के शहर कोतवाली क्षेत्र स्थित मां मनसा देवी मंदिर की पहाड़ियों में आज अचानक आग लग गयी. शिवालिक पर्वत की पहाड़ियों पर आग लगने से क्षेत्र में हड़कंप मच गया. लेकिन सम्बंधित विभाग पहाड़ियों में लगी भयंकर आग की सूचना के बाद भी मौके पर नहीं पहुंचा.  पहाड़ियों में लगातार फैल रही आग कोई आम बात नहीं है. अक्सर गर्मियों के मौसम में इस तरह पहाड़ियों में आग लग जाती हैं, लेकिन सर्दी के मौसम में पहाड़ियों में आग लगना वन विभाग और राजाजी टाइगर रिजर्व के अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े करती है. पहाड़ियों में आग से न केवल जंगली जानवरों के लिए खतरा बढ़ जाता है, बल्कि परिंदे भी इसकी चपेट में आ जाते हैं. स्थानीय लोगों का कहना है इस पहाड़ी पर पहले भी आग लगती रही है लेकिन इस ठंड के सीजन में आग लगना गंभीर मामला है. वन विभाग इस तरफ कोई ध्यान नहीं दे रहा है. इस क्षेत्र में वन विभाग के तीन बैरियर आते हैं जिसमें वन विभाग के कर्मचारी भी मौजूद रहते हैं. मगर उनको भी यह आग दिखाई नहीं दे रही है.सुबह से ही इस पहाड़ी पर आग लगी हुई है जो लगातार पहाड़ी पर आगे बढ़ती जा रही है. लेकिन वन विभाग के कर्मचारी आग को बुझाने नहीं आए.

Share this :
   
State News से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए HNS के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
 
प्रमुख खबरे
उत्तराखंड और यूपी में जहरीली शराब पीने से अबतक 40 की मौत, 18 अधिकारी निलंबित
देहरादून में 115 साल पुराना पुल भरभराकर गिरी, दो लोगों की मौत
पाले में फिसलकर खाई में गिरा बोलेरो वाहन, तीन लोगों की मौत
टिहरी से देहरादून आ रही बस पलटी, चार लोग हुए घायल
चमोली में चाकू की नोक पर छात्रा से हुआ सामूहिक दुष्कर्म
 
 
 
Copyright © 2016. all Right reserved by Live UP News 24 | Privecy policy | Disclimer Powered By :