होम कानपुर उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड बिहार नई दिल्ली राजनीति मध्यप्रदेश खेल-कूंद लखनऊ संपर्क
 
  1. कानपुर में 31 उपनिरीक्षकों के कार्यक्षेत्र में परिवर्तन,
  2.      
  3. रायबरेली के कुंदनगंज में बड़ा सड़क हादसा जिसमें कार सवार बच्चे सहित चार लोगों की मौके पर ही मौत हो गई
  4.      
 
 
आप यहां है - होम  »  मध्यप्रदेश  »  कड़ाके की ठंड में शॉल लपेट देर रात जनता के बीच पहुंच गए शिवराज सिंह
 
कड़ाके की ठंड में शॉल लपेट देर रात जनता के बीच पहुंच गए शिवराज सिंह
Posted By- Ashish Srivastava Updated: 12/24/2018 9:50:06 PM

सत्ता से विदाई के बाद मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का हरफनमौला दौरा जारी है. शनिवार को शिवराज सिंह चौहान भोपाल में ही थे और समर्थकों के अलावा पार्टी के नेताओं-कार्यकर्ताओं से दिन भर मुलाकात भी की. शाम को जब कार्यकर्ताओं और समर्थकों से फुर्सत मिली तो शिवराज अपने काफिले के साथ भोपाल की सड़कों पर निकल पड़े. शिवराज की गाड़ियों का काफिला सबसे पहले पुराने भोपाल के सुल्तानिया अस्पताल के सामने बने रैन बसेरा पहुंचा. यहां शिवराज ने पहले तो बाहर अलाव के पास बैठे लोगों से बात की और उसका बाद रैन बसेरे में रात गुजारने वाले लोगों से मुलाकात की.करीब 15 मिनट यहां रुकने के बाद शिवराज भोपाल के ही न्यू मार्केट इलाके में बने रैन बसेरे की ओर जाने लगे तो सुल्तानिया अस्पताल के बाहर एक शख्स ने उन्हें रोका और सेल्फी लेनी की ज़िद करने लगा. शिवराज ने उसे निराश भी नहीं किया. करीब 10 मिनट बाद शिवराज रात 10:30 बजे न्यू मार्केट स्थित रैनबसेरा पहुंचे और लोगों से व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी ली. यहां रैनबसेरे में गुजारा करने वाले एक शख्स ने शिवराज को बताया कि वो बाहर से है और न्यू मार्केट में फुटपाथ पर सामान बेचता है और रात को यहीं रैनबसेरा में आकर सोता है.

Share this :
   
State News से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए HNS के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
 
प्रमुख खबरे
गुर्जर आरक्षण आंदोलन: धौलपुर में फायरिंग, पथराव और आगजनी के बाद धारा 144 लागू
आखिरी मुलाकात होगी अंधेरे में इंतजार कर रही थी मौत
जमीन पर गिरते ही चली पिस्टल, गर्भवती के पेट में धसी और फिर
राजस्थान सरकार की कार में पकड़ी शराब की तस्करी
जयपुर इंजन सहित पटरी से उतरी अजमेर जा रही दयोदय एक्सप्रेस
 
 
 
Copyright © 2016. all Right reserved by Live UP News 24 | Privecy policy | Disclimer Powered By :